उमर खालिद ने लगाया सलमान खुर्शीद, प्रशांत भूषण और कवित कृष्णन पल भड़काऊ भाषण देने का आरोप

फ़रवरी में दिल्ली में हुए दंगों की पड़ताल के बाद दिल्ली की स्पेशल सेल की टीम ने अपनी रिपोर्ट अदालत में दाखिल कर दी है। इस रिपोर्ट में कई छात्र नेता समेत कई सामाजिक कार्यकर्ताओं के नाम भी जुड़े हुए हैं। इस रिपोर्ट में शामिल कुछ आरोपियों ने कांग्रेसी नेता सलमान खुर्शीद, सीपीआई सदस्य कविता कृष्णन छात्र कार्यकर्ता कंवलप्रीत कौर, वैज्ञानिक गौहर रज़ा व अधिवक्ता के नामों को अपने डिस्क्लोजर स्टेटमेंट में जोड़ा है।

दंगों में सम्मिलित खालिद के अलावा कांग्रेस के पूर्व पार्षद इशरत जहां ने भी कांग्रेस नेता सलमान खुर्शीद कर आरोप लगाए हैं। सैफी द्वारा 30 मार्च को दिए गए डिस्क्लोजर स्टेटमेंट में उन्होंने साफ-साफ कहा था कि खुर्शीद ने उन्हें विरोध लम्बे समय तक के लिए जारी रखने के लिए कहा था। स्टेटमेंट में यह भी कहा गया था कि उन्होंने और जहान ने खुर्शीद समेत कई लोगों को भड़काऊ भाषण देने के लिए बुलाया था। भड़काऊ भाषण देने से लोग धरने पर बैठ रहें थे सैफी ने स्टेटमेंट में कहा। सीआरपीसी की द्वारा 164 के तहत  बनाए गए एक संरक्षित गवाह ने भी खुर्शीद को ही आरोपी बताया था। अपने बयान में खुर्शीद ने द इंडियन एक्सप्रेस में कहा था कि  “अगर आप सारा कचरा उठाते हैं, तो आप 17,000 पन्नों की चार्जशीट बना देंगे। चार्जशीट में संज्ञेय अपराध के आसुत, प्रामाणिक, प्रभावी और उपयोगी बातें होनी चाहिए। अगर कोई कहता है कि 12 लोगों ने आकर भड़काऊ भाषण दिए, तो यह नहीं हो सकता कि 12 लोगों ने एक ही तरह के भड़काऊ भाषण दिए और हर एक के उकसाने का स्तर समान था। इस देश में प्रोवोकेशन और भीड़ जुटाना कोई अपराध नहीं है।”

खुर्शीद के साथ वैज्ञानिक गौहर रज़ा पर भी मुस्लिम जनता को भड़काने का आरोप है। संरक्षित गवाह ने कहा कि रज़ा ने सीएए व एनआरसी को लेअर सरकार पर आपत्ति जनक बयान दिए व मुस्लिम जनता को भी भड़काया। इसके खिलाफ रज़ा ने द इंडियन एक्सप्रेस में बयान दिया है कि “मैं अपने बयान और सीएए के खिलाफ अब भी खड़ा हूं।

आज भी मैं इसका विरोध करता हूं और मैं इसका विरोध करता रहूंगा क्योंकि मैं इसे भारत के संविधान पर हमला मानता हूं … मैं हमेशा किसी भी तरह की हिंसा के खिलाफ रहा हूं। इसलिए किसी और के खिलाफ किसी को उकसाने का कोई सवाल ही नहीं है। ”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.