कौन थीं ‘कंप्यूटर से तेज’ शकुंतला देवी, गणित की वंडर वूमन का विद्या बालन रोल निभा रही हैं !

शकुंतला देवी गणित वंडर वूमन के बारे में बात करें तो बता दें, इनका जन्म बैंग्लोर में हुआ है और ये गणित के मामले में किसी कम्प्यूटर से कम नहीं थी।

इनके ऊपर बनी मूवी में शकुन्तला देवी का किरदार विद्या बालन को मिला है और उनकी मेहनत ने इस फिल्म के ट्रेलर को पहले दिन से लोकप्रिय बना दिया है। ये फिल्म भारत की बेटियों के जीनियस दिमाग की बात घर घर जाकर कहेगी। तो आइए जानते है शकुंतला देवी के बारे में…

मैथ की वंडर वुमन’ और ह्यूमन कंप्यूटर’ जैसे नाम हासिल कर चुकी शकुंतला देवी मशहूर गणितज्ञ थीं। वह बड़ी से बड़ी कैलकुलेशन को चंद सेकेंडों में हल कर देती थीं। लोग उनके तेज दिमाग से हैरान थे। इनका जन्म 4 नवंबर, 1929 को बैंगलुरु में जन्मी शकुंतला देवी ने उस समय अपने गणित के ज्ञान से पूरी दुनिया में तहलका मचा दिया जब लोग हिसाब-किताब के लिए लंबा वक्त लेते थे और कैलकुलेटर के बारे में किसी को पता भी नहीं था।

पितना ने दी थी शकुंतला को गणित की शिक्षा

गणित के प्रति उनका प्यार और बिना किसी सहायता के गणित की मुश्किल समस्याओं को हल करने की प्रतिभा उनमें बचपन से ही नजर आने लगी थी। शकुंतला के पिता एक सर्कस कलाकार थे। उन्होंने बेटी को ताश के पत्तों के जरिए गणित सिखाना शुरु किया था। इसके बाद शकुंतला की दिलचस्पी गणित में बढ़ने लगी। उन्होंने कई बार पिता को भी ताश में हरा दिया और इसी दौरान उनके पिता को शकुंतला की इस प्रतिभा का पता चला।

मात्र 3 साल की उम्र में अपनी गणित की शिक्षा से सबको चौका दिया

शकुंतला को शुरुआती शिक्षा हासिल नहीं हुई, मगर उनकी स्मरण शक्ति बचपन से ही काफी अच्छी थी। उन्होंने सिर्फ 3 साल की उम्र से ही अपनी गणति की प्रतिभा का प्रदर्शन करना शुरू कर दिया था। लोग उन्हें देख-देखकर हैरान होते रहते थे। इसके बाद शकुंतला के पिता ने भी अपना सर्कस का काम छोड़ उनके लिए कार्यक्रमों का आयोजन करना शुरु कर दिया और यहीं से उन्हें लोकप्रियता भी मिलने लगी।

BBC रेडियो से आई सुर्खियों में शकुंतला देवी

शकुंतला पहली बार सुर्खियों में तब आईं जब वो बीबीसी रेडियो के एक शो में गईं और वहां उनसे गणित का पेचीदा सवाल किया और उन्होंने तुरंत इसका सही जवाब दे दिया, जबकि खुद रेडियो जॉकी का जवाब गलत निकला। शकुंतला की इस असाधारण प्रतिभा का प्रदर्शन मैसूर विश्वविद्यालय और अन्नामलाई विश्वविद्यालय से शुरु हुआ। शकुंतला देवी उस जमाने के कंप्यूटर्स से भी तेज जवाब देती थीं।

अच्छी नहीं थी शादी-शुदा जिंदगी

शकुंतला देवी ने साल 1960 में एक बंगाल आईएएस ऑफिसर परितोष बनर्जी से शादी की थी। हालांकि, वह अपनी शादी-शुदा जिंदगी से ज्यादा खुश नहीं थीं और 1979 में वह पति से अलग हो गईं। शकुंलता 1980 में अपनी बेटी को लेकर वापिस बैंगलुरु चली गईं। यहां वह मशहूर राजनेताओं और सेलिब्रिटीज के लिए ज्योतिषी करने लगीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.